शनिवार, 15 नवंबर 2008



मंगलवार, 4 नवंबर 2008

A List of Audio /Visual material

http://www.worldlanguage.com/Products/Hindi-A-Course-Advanced-Part-I-II-by-Sheela-Verma-Tutorial-Learning-I-2-46505.htm
  Instant Immersion - 51 Languages (2 CD-ROM) $34.95 
2 Chalo Festival Time (DVD) $14.95 
3 Talk Now Learn Hindi $45.00 
4 Pimsleur Basic Hindi (Audio CDs) $24.95 
5 Chalo Chalo Music Audio CD $14.95 
6 Hindi - Hindi Writing Book (7 Volumes) $48.95 
7 Colloquial Hindi (322 pages 2 cassettes) $33.95 
8 McGrawHill Hindi - Your First 100 Words in Hindi $10.95 
9 Hippocrene Hindi - Teach Yourself Hindi $8.95 
10 Hindi - Learn Hindi in 30 Days through English by K. Srinivasachari $14.95 
11 Vidyarambh - The Hindi Tutor on CD $50.00 
12 Learn Hindi Multimedia CD-ROM $70.95 
13 NTC - Teach Yourself Hindi Complete Course (Audio CD & Book) $29.95 
14 Talk Now Learn Hindi Intermediate Level 2 (World Talk) $45.00 
15 Hindi - A Course in Advanced Hindi - Part I & II by Sheela Verma $39.95 
16 Pimsleur Conversational Hindi (Audio CDs) $49.95 
17 Hindi Guru $79.95 
18 Colloquial Hindi (Book, CD & Cassette) $49.95 
19 Hindi for Non-Hindi Speaking People $34.95 
20 Hindi - A Bilingual Conversational Guide (Hindi - English) $9.95 
21 Word Wizard - CD ROM $49.95 
22 Hindi Matra (CD-ROM) $49.95 
23 NTC - Teach Yourself Hindi Conversation (Book & Audio CD) $18.95 
24 Pimsleur Hindi Compact (10 lesson) Cassette $89.95 
25 Learn Hindi Multimedia (CD-ROM w/ Book) $114.95 
26 Teach Yourself Hindi (A Deluxe Book with 2 Audio Cassettes) $49.95 
27 Pimsleur Course-Hindi Learn to Speak & Understand (Compact) Audio CD $49.95 
28 Learn Hindi Multimedia CD-ROM with Hardcover Book $124.95 
29 Rosetta Stone Hindi Level I $269.95 
30 Pimsleur Comprehensive Hindi I (30 lesson) Audio-CD $345.00 
31 Pimsleur Hindi Compact (10 lesson) Audio CD $109.95 
32 Instant Immersion Middle East Deployment Pack (Only 1 Left) $75.00 

 
  
  


सोमवार, 18 अगस्त 2008

गुरुवार, 26 जून 2008

गुरुवार, 19 जून 2008

साहित्य

साहित्य में कविता और कहावतें हैं
http://saahitya.blogspot.com

फिल्मी गानों से गिनती सीखना

बुधवार, 18 जून 2008

प्रसाद की कविता


प्रयाण गीत्


poem_by_vkm.mp3

वशिनी : बायो-डेटा

Dr. (Ms.)VASHINI SHARMA
53, Kailash ViharAgra (UP)
INDIATel: +919837651924
E-mail ID:vashkhs@yahoo.co.in
EDUCATION
Osmania University,Hyderabad, India
M.A. (Hindi)Literature 1966Agra University, Agra, India
M.A. (Linguistics) 1969Agra University,Agra, India
Ph.D. (Psycho Linguistic)“A Linguistic study of speech development in early childhood.”1974
• PRESENT POSITION :EX PROFESSOR, Central Institute of Hindi, Agra (India)• PRESENTLY ENGAGED in International Hindi Teaching Dept, Central Institute of Hindi, Agra covering the following topics:- TEACHING OF HINDI AS FOREIGN LANGUAGE- INDIAN CULTURE AND PHILOSOPHY
• - COMMUNICATION SKILLS AND HINDI Worked in various centers of Central Institute of Hindi at Agra, Delhi, Hyderabad and Gauhati (India) for over 33 years from 1973 to 2006.• Teaching Experience
• Teaching of Hindi as Foreign Language.• Teaching of Hindi Language and Linguistics to Non-Hindi Speaking teachers in Andhra Pradesh, Kerala, Maharashtra, Karanataka, Goa, North East States-Assam, Arunachal Pradesh and Nagaland in India.
• Teaching Hindi Remedial Language Lessons to Foreign students through Language Lab in Central Institute of Hindi, AGRA (India).
• Teaching Hindi in various Functional Courses such as Banking, Postal and Railways in Central Institute of Hindi, Hyderabad , Agra (India).
• Teaching Indian culture and philosophy to Foreign students and guidance in their short-term research paper to nearly 15 students at dept of Teaching of Hindi as Foreign Language, Central Hindi Institute, Agra.
• Training of Hindi Trainers in the Faculty Improvement Programmes in Language Technology at C.H.I. Agra. PUBLICATIONS (BOOKS)
• Uccharan Abhyas Pustika (Remedial Pronunciation Lessons for teaching Hindi) published by Central Institute of Hindi, AGRA. (1977)
• Advanced English-Hindi Phrase Book (A Conversational Book English-Hindi for Foreigners) published by Central Institute of Hindi, AGRA. (1982)
• Vyakaran Siddhant aur Vyahar. Co-editor, Published by Central Institute of Hindi, Agra,(1983)
• MANOBHASHA VIKAS (A book on Psycho Linguistics dealing with Language Learning and Language Development) published by Central Institute of Hindi, AGRA.(1987)
• Vishwa Bhasha Hindi, Editor, published by Central Institute of Hindi, AGRA. (2001)PUBLICATIONS
• A paper presented in SALA, 1985 at Japan on A PARAMETER SETTING PARADOX : Children’s acquisition of Hindi Anaphora. Co-author Barbara Lust, Tej Bhatia, James Gair, Vashini Sharma, Jyoti Khare.and
• Paper published in a Special Issue PAPERS IN SOUTH ASIAN LINGUISTICS, Cornell Working papers in Linguistics, Fall 1980, No. 4, pp 107-132.
• Almost 10-12 papers published in various Research Journals on Child Language Learning, Special Education, Language Technology, Media Language and Teaching Hindi as a Foreign Language.PAPERS PRESENTED IN NATIONAL/INTERNATIONAL SEMINARS
• Papers presented nearly in 25 National/International seminars in Indian Universities and Institutions On Child language development, Special Education, Media Language and Teaching Hindi as a Second and Foreign language.
• Paper presented in 8 world Hindi Conference in New york 13-15 july 2007 on Status and the Possibilities of Web-courses for E-learning of Hindi
RECENT SEMINAR PAPERS PUBLISHED
• -BHAKTIKAALEEN SAAHITYA:” RAHEEM” IN REFERNCE TO LITERTURE TEACHING TO INTERNATIONAL STUDENTSRAHEEM: AADHUNIK SANDARBH; SEMINAR/WORKSHOP; BOOKSERIES .NO.25. C.I.H.Agra.2005
• FUNCTIONAL HINDI: NEW DIMENSION; GAVESHANA; 85-86/2005, C.H.I.; AGRAUNPUBLISHED PAPER
• -HINDI TEACHING AS A FOREIGN LANGUAGE: IN REFERNCE TO LINGUA-CULTUREPaper presented at Antarrashtriya Hindi Utsav. January 12 to14, 2007.WORKSHOPS
• TELIVSION SCRIPTING FOR LANGUAGE TEACHERS, CIEFL in 1991.
• VIDEO SCRIPT WRITING WORKSHOPS FOR HINDI TEACHING- Lal Bahadur National Academy of Administration Mussorie,- National Council for Education and Research Training, Delhi- Central Institute of Hindi, Agra.PROJECTS COMPLETED
• A survey project on ‘speech defects in children of Agra city’ by AIIMS in Dep’t. Of Pediatrics, S.N. Hospital, Agra in 1972-73.
• First language acquisition data collection for five years (145 children) in Agra and Hyderabad for a project by Barbara Lust, Cornell University on ‘Universal Grammar in South Asian Languages’ in 1977-82.
• Learning and Forgetting a second language. The acquisition and loss of Hindi -Urdu as a second language by English speaking children’, data elicitation for doctoral research project by Lynne Hansen, Brigham Young University, Hawaii Campus, Hawaii in 1980.
• ‘Computer Sansadhit Hindi Shikshan Evam Sarajanatmak Lekhan Shikshan’ – A CALT and script writing Project by IIT Delhi and CIH, Delhi 1988-89.
• ‘Anatarrashtriya Manak Hindi Pathyakram’ A project of International Hindi Teaching Syllabus, CIH, Agra, 2003.AS CO-ORDINATOR.ON GOING PROJECTS
• Preparation of TEACHING MATERIAL (AUDIO/VIDEO CD) OF HINDI AS A FOREIGN LANGUAGE in the context of the syllabus formulated by Central Institute of Hindi for International Universities. as PROJECT CO-ORDINATOR
• HINDI CORPORA: a project by C.H.I. Agra and C.I.I.L.Mysore; 2005-2007. AS PROJECT CO-ORDINATOR.• Multimedia Hindi Teaching Lessons : For non - Heritage Hindi Learners by usingBollywood Films and Songs .
• Multimedia Package: Indian cultural Heritage of India for International Students as supplement to their interest and syllabus.LANGUAGES KNOWN
• PROFICIENT IN HINDI, ENGLISH AND TELUGU
• WORKING KNOWLEDGE OF MARATHI , URDU AND SANSKRITFIELDS OF SPECIALIZATION
• Language Teaching (Hindi as a Foreign Language)
• Preparation of Language teaching material for Language teachers. (Audio/Visual and Multimedia Systems).
• Media Language and Communication using Bollywood films and songs
• Child Language development, Special Education, Psycholinguistics.
REFERENCES:
Prof. Tej.K. Bhatia, Syracuse University, U.S.A. : tkbhatia@syr.edu
Prof. B.Lakshmi Bai ,ex professor and head of dept.of Linguistics .Osmania University,Hyderabad and facuilty member Language Technology research lab,IIIT,Hyderabad,(A.P.) proflaksh@rediffmail.com ;lakshmih@iiit.net
Prof.Vimalesh Kanti Verma ,University of Delhi ,Delhivimleshkanti@hotmail.com
PERSONAL DETAILS
• Date of Birth: 20-11-1944
• SEX: FEMALE
• Place of Birth: Hyderabad (A.P.) INDIA
• Nationality: INDIAN
• MARITAL STASTUS: MARRIED• Height: 4’ 10’’
• Weight: 57 kg
• Passport No. E3457478
• Date of Issue: 30-04-2003
• Place of Issue: Ghaziabad, U.P. (INDIA)
• Valid until: 29-04-2013
प्रस्तुतकर्ता vashini sharma पर 5:01 AM 0 टिप्पणियाँ

मंगलवार, 17 जून 2008

ये कैसा नारी विमर्श ?

ये कैसा नारी विमर्श

रोज़ सुन रही हूँ ,पढ रही हूँ देख भी रही हूँ
छोटे-बडे परदे पर चल रही,चलती जा रही
अंतहीन ,अर्थहीन सभ्यों की निरर्थक , झेलू बहस
जो खींच-तान कर बना दी जाती है देह-विमर्श
उघडे बदन और रिसते लहू-लुहान ज़ख्मों की
बेहयाई से जुगाली करता-कराता ये समाज
बस इतना भर ही!

क्यों तुम मुझे और मेरे मन को भी कभी छू नहीं लेती
पर लगता रहा ये तो व्यथा-कथा भर ही तो है
परदे पर सवाक-अवाक चलती-फिरती परछाई ही तो है
कभी-कभार आँखें भी भर आती हैं तो क्या हुआ?
अनायास ओह! से ज़्यादा कह भी नहीं पाती कई बार
मन को लगाम लगानी पडती है ‘ ऐसा होता ही रहता है’
बस इतना भर ही!

क्यों तुम मुझे और मेरे मन को भी कभी छू नहीं लेती
क्यों मुझे नारी जीवन की व्यथा-कथा नहीं सालती ?
क्यों मैं अपने को किनारे बैठा हुआ भी नहीं लगती ?
क्यों मैं डूबते हुओं को तमाशबीन भी नहीं लगती ?
क्यों इतनी सारी दुर्घटनाएँ अब घटना भी नहीं लगती ?
क्योंकर हर ओर चर्चा होती है मासूम के पल-छिन की
बस इतना भर ही!

मज़े से चटखारे ले-लेकर प्रश्नों के तीरों से घायल करते
मिर्च मसालों में लपेट कर किसी निष्कर्ष पर पहुँचते
फिर- फिर दोहराते दिखाते उन काले कारनामों को
पर चेहरा ढँक कर गुनाहगार के धुँधलाते बेगुनाह अक़्स
बेबस अचानक पकडे गए जानवर से मासूम दिखते-लगते
बस इतना भर ही!

ये आत्म स्वीकृति है हमारी तो भी क्या मज़ा है?
अभी भी हम सब रस लेकर ही परदे बदल देते हैं
शायद अपने आप को उस जगह न पाने की खुशी में
एक राहत की साँस लेकर पहुँचते हैं अगले मुद्दे पर
क्योंकि देह विमर्श अभी भी देह से परे नहीं ले जा रहा
चोटी -घाटी,खाई -गहराई की नाप –जोख करा रहा
बस इतना भर ही!

मैं सोफे पर बैठी , बिस्तर पर लेटी अक्सर गुनगुनी धूप में
कुछ कुछ खाती-पीती –बतियाती –अलसाती चकित सी
पढती –देखती –गुनती रहती हूँ सब कुछ विस्मय भाव से
अरे! क्या कोई ऐसा खुला भी लिख पाता है आजकल
ओह! क्या इतना सह कर भी जी पाता है आजकल
बस इतना भर ही! नहीं

है मेरे आश्चर्य-विस्मय की सीमा का और छोर
अरे!गिद्धों-खूँखारों से घर में कैसे बच जाती हैं ये नारियाँ
वैसे बचा भी क्या रहता है चलती –फिरती लाशों में
तब भी गिरने-उठने ,लडने-और पैने नाखूनों से नोचने
जीते जाने ,जगह बनाने मुट्ठी भींचने से नहीं चूकती
एक उजली किरन की आस में, सूरज को आँखों में समोती
अभी तो बस इतना भर ही!

(नारी विमर्श से क्षमा याचना सहित एक नारी का आत्मालाप )
वशिनी शर्मा , 2007


सोमवार, 16 जून 2008

सोमवार, 26 मई 2008

शिला का अहिल्या होना

शिला का अहिल्या होना

क्या अहिल्या इस युग में नहीं है
पति के क्रोध से शापित ,निर्वासित,निस्स्पंद ,शिलावत
वन नहीं भीड -भाड भरे शहर में ,
वैभव पूर्ण - विलासी जीवन में
रोज़ रात को मरती है बिस्तर पर
अनचाहे संबंधों को जीने को विवश
भरसक नकली मुस्कान और सुखी जीवन का मुखौटा ओढे
एक राम की अनवरत प्रतीक्षा में रत
इस अहिल्या को कौन जानता है?
उस अहिल्या को कम से कम यह तो पता था
कि आयेंगे राम अनंत प्रतीक्षारत शिला को
अपने स्पर्श से बदलेंगे अहिल्या में
लौटेगी अपने पति के पास
नया जीवन पाकर हर्षितमना
सब कुछ होगा पहले-सा ,
कुटी भी ,पति-परमेश्वर भी
पर क्या ये अहिल्या चाहेगी लौटना
अपने उस पति के पास
दिया जिसने शापित जीवन
निर्दोष , निरपराध नारी को
क्या सब कुछ भूल कर
अपनायेगी उस पति को
जो हो सकता है फिर से
दे दे शापित जीवन का उपहार
तब कहाँ से पायेगी
उद्धार का एक और अवसर राम के बिना
पर यक्ष-प्रश्न तब नहीं उठा
तो क्या आज अब नहीं उठेगा
कि आज की ये अहिल्या
अकेली भी तो रह सकती है
क्योंकि राम को तो
आगे और आगे दूर तक जाना है
जहाँ न जाने कितनी शिलाएँ
प्रतीक्षारत हैं अहिल्या होने को
आज के नये राम को भी तो
आगे और आगे जाना है दूर तक
भले ही इसे कामोन्मत्त शूर्पनखा का
दर्प-दमन भी करना न हो
अशोक वाटिका की बंदिनी सीता को
रावण से मुक्त कराना भी न हो
लौट कर अयोध्या सीता को
फिर से शंकित पति की तरह त्यागना भी न हो
तो यक्ष- प्रश्न अब भी है
कि अहिल्या का उद्धार हुआ तो क्या हुआ?
सीता रावण की अशोक-वाटिका से
मुक्त हुई भी तो क्या भला हुआ?
लव-कुश तो फिर भी बिना पिता के ही
आश्रम में पलने को विवश हुए
अंतिम सत्य तो यही है
कि हर युग में राम की नियति है वह सब करने की
और अहिल्या और सीता की नियति है
फिर फिर उसी जीवन में लौट जाने की

वशिनी शर्मा वर्जिनीया,2007

हिंदी उत्सव -लेख

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी उत्सव(12, 14 जनवरी 2007)विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण(भाषिक संस्कृति शिक्षण के संदर्भ में)प्रो. वशिनी शर्माविदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण का अंतर्राष्ट्रीय महत्व शैक्षिक एवं वैश्विक संदर्भों में अब विचार या चर्चा का क्षेत्र न रह कर सक्रिय कार्यान्वयन की महती भूमिका की अपेक्षा कर रहा है। विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं, अखिल भारतीय स्वैच्छिक संस्थाओं एवं विभिन्न वि.वि. के प्रयासों के बाद भी अंतर्राष्ट्रीय मानक पाठ्यक्रम और उपयुक्त सामग्री की माँग बनी हुई है। उक्त दिशा में समेकित समग्र प्रयासों का एकीकृत संचालन कई विश्व हिंदी सम्मेलनों की विचार गोष्ठियों का मुख्य विषय भी रहा। इस स मय प्रमुख रूप से विदेशी भाषा के रूप में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी शिक्षण का प्रयास कर रहे संस्थान हैं- केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा, दिल्ली केंद्र; महात्मा गाँधी अं.वि.वि. वर्धा; कें.हि. निदेशालय, नई दिल्ली का विदेशियों के लिए पाठ्यक्रम। वैसे कई विश्वविद्यालयों में भी विदेशियों के लिए हिंदी शिक्षण के पाठ्यक्रम चलाये जा रहे हैं जैसे दिल्ली विश्वविद्यालय और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय।केंद्रीय हिंदी संस्थान की हिंदी के शिक्षण-प्रशिक्षण, हिंदी शिक्षण की अधुनातन विधियों के विकास, हिंदी के क्षेत्र में मूलभूत अनुसंधान, हिंदी भाषा के अन्य भाषाओं के साथ व्यतिरेकी अध्ययन, हिंदी भाषा एवं साहित्य के क्षेत्र में शोध आदि में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। विदेशों में हिंदी के प्रचार-प्रसार की योजना के अंतर्गत संस्थान वर्षों से विदेशों से हिंदी सीखने आए छात्रों को प्रशिक्षित कर रहा है। इस योजना के अंतर्गत विदेशी हिंदी शिक्षण विभाग की 1991-92 में संस्थान के मुख्यालय, आगरा में शुरूआत हुई। इसके पूर्व विदेशी छात्रों के लिए सभी पाठ्यक्रम संस्थान के दिल्ली केंद्र पर संचालित होते थे। अब मुख्यालय आगरा में भारत सरकार की विदेशों में हिंदी की प्रचार-प्रसार योजना एवं सांस्कृतिक आदान प्रदान योजना के अंतर्गत चयनित छात्र हिंदी अध्ययन हेतु आते हैं।केंद्रीय हिंदी संस्थान के विदेशी हिंदी शिक्षण विभाग में निम्नलिखित पाठ्यक्रम आयोजित किए जाते हैं-1. हिंदी भाषा दक्षता प्रमाण पत्र (100)2. हिंदी भाषा दक्षता डिप्लोमा (200)3. हिंदी भाषा दक्षता उच्च डिप्लोमा (300)4. हिंदी भाषिक अनुप्रयोग डिप्लोमा (400)5. हिंदी शोध अनुप्रयोग डिप्लोमा (500)विभिन्न पाठ्यक्रमों के अंतर्गत छात्रों में भाषा के विभिन्न कौशलों- श्रवण, भाषण, वाचन एवं लेखन- का विकास किया जाता है, साथ ही छात्रों में हिंदी साहित्य की विभिन्न शैलियों एवं विधाओं की समझ भी विकसित की जाती है, उच्च स्तर पर हिंदी भाषा और साहित्य के विकास, हिंदी के भाषावैज्ञानिक अध्ययन, हिंदी संरचना, विभिन्न भाषाओं में परस्पर अनुवाद के सिद्धांत, हिंदी साहित्य शिक्षण, भाषा शिक्षण एवं सामग्री निर्माण जैसे विषयों में भी छात्रों को प्रशिक्षित किया जाता है। इधर शोध स्तरीय पाठ्यक्रम में भारतीय सभ्यता और संस्कृति के अध्ययन को भी जोड़ा गया है। यह विषय विदेशी छात्रों के संदर्भ में विशेष महत्व का है।भाषिक संस्कृति का शिक्षणःमात्र भाषा उपार्जन के क्रम में भाषायी संस्कृति अनायास ही आत्मसात कर ली जाती है। पर अन्य भाषा के रूप में इसे सीखना होता है। भाषा पर पर्याप्त अधिकार करने के लिए उसके सांस्कृतिक पक्ष की जानकारी प्राप्त करना आवश्यक होता है। इसके लिए उस भाषा भाषी जनता की जीवन-शैली, रीति-रिवाजों सामाजिक और आर्थिक नैतिक परम्परा तथा उनके जीवन मूल्यों से छात्रों को परिचित कराना जरूरी होता है। विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण की समस्याएँ प्रवासी भारतीय छात्रों एवं अन्य देशों के छात्रों के लिए एक-सी नहीं हैं।चारों भाषा कौशलों के विकास के साथ अध्येय भाषा की संस्कृति का बोध अतिरिक्त कौशल के रूप में विकसित किया जाता है। विदेशी भाषा शिक्षण में भाषा कौशलों के विकास के साथ-साथ छात्रों को उस भाषा की संस्कृति से भी परिचित कराया जाना चाहिए। भाषा में प्रयुक्त शब्दों, वाक्यांशों तथा वाक्यों का अर्थ भाषायी संस्कृति से नियंत्रित होता है। मातृ-भाषा के प्रयोक्ता के लिए वह सहज रूप से ही सीखा जाता है। लक्ष्य भाषा की जीवन शैली सांस्कृतिक संदर्भ में अर्थ छटाओं और जीवन मूल्यों से परिचित न रहने पर विविध भाषायी कौशलों का ज्ञान होने पर भी छात्र भाषिक अभिव्यक्तियों का सही प्रयोग करने में असफल रहता है। जैसे किसी की मृत्यु के बाद सीधे-सीधे यह सूचना न देकर इस तरह कहा जाता है-स्वर्गवासी हो गये, परलोक सिधार गए, गुजर गए, इस दुनिया में नहीं रहे, खुदा को प्यारे हो गये आदि...भाषीय संस्कृति शिक्षण की अनिवार्यताः-1. व्यक्ति की निजी सांस्कृति चेतना के विकास में सहायक2. व्यवहारिक कुशलता के विकास में सहायक3. अध्येय भाषा की संस्कृति के समझ में सहायक4. भाषा के अधिगम और प्रभावी शिक्षण में सहायक5. भाषायी संस्कृति के कारण व्यापक दृष्टिकोण का विकास6. विभिन्न प्रकार के भाषायी व्यवहारों एवं कार्यों को समझने के लिए7. विभिन्न संदर्भों में प्रयुक्त विशिष्ट शब्दावली उनमें निहित सांस्कृतिक अभिव्यक्तियों तथा विशिष्ट भाषा सांचों को सिखाने की आवश्यकता के लिए जैसे- आदर सूचक “जी और हैं” का प्रयोग एक वचन के लिए जैसे वे आज नहीं आ रहे हैं। या राजबब्बर सफल रहे हैं।8. हिंदी में प्रयुक्त मुहावरे तथा कहावतों का उदाहरणों द्वारा सटीक प्रयोग भी जरूरी होता है।जैसे- रास्ता भूलना, पाठावली 100,जब कभी भी पुराना मित्र या परिचित व्यक्ति एक दूसरे से अधिक समय बाद मिलने आता है। तो पूछने का यह भी एक ढंग है- “कहो भाई कैसे रास्ता भूल गए” अर्थात बहुत दिनों बाद याद किया।साहित्य के अध्ययन के लिए संस्कृति का ज्ञान अपेक्षित है-1. साहित्य प्रसंगों में आने वाले संदर्भों को समझने के लिए-i. व्यंजनों के नामii. देवी देवताओं के नामiii. गहनों के नामiv. रिश्ते-नाते की शब्दावलीv. भौगोलिक एवं ऐतिहासिक संदर्भvi. पौराणिक एवं धार्मिक प्रसंगvii. प्रतीकों का सांस्कृतिक महत्वviii. मान्यताओं एवं विश्वाससंस्कृति शिक्षण का क्रम सारे शिक्षण के दौरान सूचारू क्रमबद्ध एवं नियमित हो भारतीय संस्कृति, भारतीय धर्म, भारतीय त्यौहार से संबंधित ज्ञान सभी स्तर की पाठावली में श्रेणीकृत, स्तरीकृत रूप में दिए गए हैं।तुलनात्मक परियोजना कार्य मातृ-भाषा एवं अन्य-भाषा संस्कृति का तुलनात्मक अध्ययन लघु-परियोजना कार्य के माध्यम से संपन्न कराया जा सकता है। संस्कार रीति-रिवाज, मान्यताएँ, साहित्यिक रचनाएँ, मुहावरे आदि से संबंधित लघु परियोजना कार्य विभिन्न छात्रों द्वारा विगत वर्षों में करवाया गया। भाषा खेलों द्वारा भी विभिन्न प्रकार के संदर्भों में प्रश्नोत्तर, मिलान, क्रासवर्ड पहेली आदि के द्वारा रोचक ढंग से संस्कृति का शिक्षण किया जा सकता है।विश्व के विभिन्न देशों से हिंदी सीखने आने वाले ये छात्र हिंदी को एक नया वैश्विक स्वरूप और संदर्भ प्रदान करते हैं। ये सब हिंदी सीखते तो एक ही रूप में हैं, पर इनके व्यवहार में हिंदी का स्वरूप इनकी अपनी भाषाओं की सुगंध और मिठास लिए होता है। इंडोनेशिया के छात्र ‘श’ नहीं बोल पाते तो जापान के ‘र-ल’ में अंतर नहीं कर पाते; गयाना, सूरीनाम के छात्र ‘ने’ का प्रयोग नहीं करते; अधिकांश छात्र ‘चाहिए’/ ‘चाहता हूँ’ का अंतर नहीं जानते। फिर भी ये सब हिंदी पसंद करते हैं, पढ़ना चाहते हैं, सीखना चाहते हैं, हिंदी में रिक्शेवाले से, सब्जी वाले से, दुकानदार से, अपने साथियों से- सभी से बात करना चाहते हैं। मेरे विचार से हिंदी के अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप के सच्चे नियामक यही छात्र हैं। जब हम अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में हिंदी की बात करते हैं, तो मुझे लगता है कि हमें सिर्फ केंद्रीय हिंदी संस्थान में पढ़ाई जाने वाली मानक भाषा हिंदी को ही नहीं देखना है, बल्कि इन छात्रों द्वारा प्रयुक्त, स्थापित, सिद्ध हिंदी भी हैं, जो इनके मध्य सम्पर्क- सूत्र का कार्य करती है। यह संपर्क- भाषा हिंदी ही वस्तुतः हिंदी का अंतर्राष्ट्रीय स्वरूप है।विभिन्न देशों, विभिन्न कालों में विभिन्न विद्वानों, लेखकों, कवियों ने बार-बार यही बात दोहराई है कि मानव का स्वभाव, मनोभाव, आदतें, मनोवृत्तियाँ कहीं भी, कभी भी बदलती नहीं है, चाहे वह कोई देश हो, कोई जाति हो, कोई रंग हो, कोई समय हो, कोई सभ्यता हो, कोई संस्कृति हो। मुस्कान की, खुशी की, गम की, आँसुओं की भाषा एक सी है, देश-प्रेम की, ईश्वर भक्ति की, मोहब्बत की, नफरत की अभिव्यक्ति सब जगह एक सी है, शादी, विवाह, त्योहार, उत्सव के संदर्भ में भी सब जगह परंपराएँ, मान्यताएँ एक-सी हैं, विश्वास, आस्थाएँ भी सब की एक समान हैं। हमारी संस्कृति में जैसे प्रेम संबंध को जोड़ने के लिए एक सूत्र को प्रतीक माना जाता है, वैसे ही बल्गारिया में भी माना जाता है कि एक समय विशेष पर दूसरों की कलाई में बांधा जाने वाला धागा हमारे प्रेम, शुभकामनाओं और शुभेच्छा का प्रतीक है। भारत की तरह उक्रेन में भी माता-पिता की अनुमति विवाह की सफलता के लिए आवश्यक मानी जाती है। देश प्रेम की अभिव्यक्ति श्रीलंका और भारत में समान है। आँसुओं की, प्रेम की, इज़हार की, इंकार की अभिव्यक्ति विश्व के हर कोने में समान है।विदेशी छात्रों के लिए संस्थान द्वारा निर्मित पाठ्य सामग्री में जिन भाषिक एवं सांस्कृतिक बिन्दुओं को लक्ष्य में रखकर भाषा शिक्षण की समस्यों के समाधान की कोशिश की गई हैं वे इस प्रकार हैं-1. पाठ2. प्रश्‍न3. शब्दार्थ4. सांस्कृतिक टिप्पणी5. मुहावरे/ कहावतें6. अभ्यास7. भाषा कौशल एवं संस्कृति शिक्षण सहायक सामग्रीयहाँ यह कहना समीचीन होगा कि यह पाठ्य सामग्री श्रीलंका में भी उपयोग के लिए भेजी गयी है। अतः निश्चित ही है कि इसकी सहायक सामग्री अर्थात् श्रव्य-दृश्यात्मक सामग्री, आडियो विडियो, सी.डी) उपलब्ध करायी जायेगी। यह भी उल्लेखनीय है कि अन्य कई विदेशी विश्वविद्यालयों द्वारा पाठ्यक्रम निर्माण में संस्थान से सहयोग की मांग की गई है।संस्थान की नवीनतम योजनाओं में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी भाषा शिक्षण सी.डी. निर्माण और साहित्य सी.डी. निर्माण की योजना चल रही है। प्रथम योजना में भाषा के विदेशी भाषा के रूप में शिक्षण हेतु सी.डी. निर्माण की योजना है। साहित्य सी.डी. निर्माण योजना में हिंदी साहित्य को विभिन्न कालों के प्रमुख कवियों की काव्यात्मक, आवृत्ति परक एवं संगीतमय प्रस्तुति की जाएगी जो युवा पीढ़ी के मानस में, साहित्यिक अभिरूचि उत्पन्न कर सकेगी। इसमें उर्दू के कुछ प्रमुख कवियों को भी शामिल किया गया है। संस्थान इसके अतिरिक्त ‘हिंदी ऑन लाइन’ और ‘भाषा मंदाकिनी नामक’ दो महत्वकांक्षी परियोजनाओं के द्वारा दूरस्थ हिंदी भाषा शिक्षण के क्षेत्र में नये प्रतिमान स्थापित करने का आकांक्षी भी है।भाषा प्रौद्योगिकी एवं भाषायी संस्कृति शिक्षण सामग्रीकें.हिं.सं. के मुख्यालय में तीन भाषा प्रयोगशालाएँ हैं जिनमें श्रव्य, दृश्य एवं कंप्यूटर साधित सामग्री का प्रयोग भाषा कौशलों के शिक्षण में किया जाता है। जो इस प्रकार हैंi. श्रव्य/दृश्य-श्रव्य सामग्री- उच्चारण, वाचन-बोधन, वार्तालाप, भाषण, परिचर्चा कविता वाचन, कहानी वाचन-बोधन, लोक कथाएँ-देशी, विदेशीii. सांस्कृतिक सामग्री- गीत, संगीत, नृत्य, पर्यटन स्थल, कवि सम्मेलन, नाटक, मेले, उत्सव, सांस्कृतिक आयोजन की सामग्री।iii. फिल्मों/धारावाहिकों/अन्य कार्यक्रमों से सामग्री-अ) साहित्यिक कृतियों पर आधारित फिल्में/सी.डी.आ) लोकप्रिय सुरुचिपूर्ण फिल्में/धारावाहिक (रामायण, महाभारत, चाणक्य)इ) फिल्मी गीत, संवाद, वर्णनiv. संप्रेषणात्मक सामग्री1. चित्र, विज्ञापन, समाचार-वाचन, आँखों देखा हाल ।2. भाषा खेल- अंत्याक्षरी, पहेली बूझना, क्रासवर्ड, पहेली, क्विज़ आदिv. सक्रिय गतिविधियाँअ) संदर्शन, पर्यटन, सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सहभागिताआ) प्रतियोगिताएँ- वाद-विवाद, कविता वाचन, स्वरचित कविता वाचन, भाषण आदिइ) गायन, वादन, नृत्य, अभिनय प्रतियोगिताएँई) योग, चित्रकला, संगीत एवं नृत्य का प्रशिक्षणउ) संस्कृत भाषा का शिक्षण- अतिरिक्त भाषा ज्ञान के लिए।अंत में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी शिक्षण के क्षेत्र में भाषा शिक्षण सामग्री निर्माण में उन संभावनाओं की संक्षिप्त चर्चा की गयी है जो हिंदी के क्षेत्र में कार्यरत सभी संस्थाओं से सक्रिय भूमिका की अपेक्षा करती है।1. मल्टीमीडिया भाषा शिक्षण पैकेजस का निर्माण2. दृश्यात्मक कोश, संदर्भ एवं परिचयात्मक भाषा संस्कृति कोश.3. छात्रोपयोगी व्याक रण ग्रन्थ।4. वार्तालाप/ फ्रेजबुक पुस्तिकाएं (प्रयोजनपरक) छात्रों के लिए, पर्यटकों के लिए रोजगार के लिए।5. टी.वी. एवं अन्य जनसंचार माध्यमों का भाषा शिक्षण में प्रभावी उपयोग।6. फिल्मों एवं फिल्मी गीतों और संवादों का भाषा शिक्षण में प्रभावी उपयोग।भाषा शिक्षण में शैक्षिक सहायक सामग्री- निर्माता संस्थान।1. केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा।2. केंद्रीय हिंदी निदेशालय, नई दिल्ली।3. रा. शै. एवं अ. प., नई दिल्ली।4. इन्दिरा गांधी, मुक्त वि.वि., नई दिल्ली।5. अन्तर्राष्ट्रीय महात्मा गांधी हि. वि. वि. वर्धा।6. साहित्य अकादमी, नई दिल्ली।7. सी.डेक, पुणे8. गैर सरकारी प्रयासअ) सी.ई.सी. ऐजूवेयर, नई दिल्लीब) टी.वी.एन.एफ. कंपनी, नई दिल्लीस) मैरीगोल्ड, कंपनी, नई दिल्ली।

जैजैवंती कार्यक्रम -19 मई 2008



Posted by Picasa

मंगलवार, 8 अप्रैल 2008

रविवार, 20 जनवरी 2008

मंगलवार, 15 जनवरी 2008

12 जनवरी को दिल्ली में चिट्ठा जगत के जमावड़े की झलकियाँ

http://www.flickr.com/photos/ajayjain/2192429168

http://www.flickr.com/photos/payalam/

http://www.ndtv.com/convergence/ndtv/videopod/default.aspx?id=22149

http://www.flickr.com/photos/ajayjain/sets/72157603712545608/

http://www.flickr.com/groups/612317@N20/pool/

http://www.flickr.com/photos/ajayjain/tags/indiablognewmediaassociatdbnms/

उर्दू फोनेटिक की बोर्ड की सुविधा

urdu
if any ime is not installed please follow, following instructions:Insert win XP service pack2 cd into the cd romAnd close the autorun page of win XPClick on start click on control panel click on regional & language optionsClick on language tabUnder supplement language supportTick the check box in front of install file for complex script rightto left languagesClick on apply and okIt will prompt you that it is going to copy addition files from win XPcd to your hard driveIt will copy some filesNow it will ask you restart your system please restart your system
If hindi ime is loaded then start these following instructions:Double click on the link provide send in mailhttp://meltingpot.fortunecity.com/mlk/470/urdu_phonetic_keyboard.htm
Double click self-installing windows zip file (recommended) 16.1 kbSave the file in your hard diskClick on zip file (8.52 kb)After that extract the files it will create a folder called urdu-PhnExtract the file urdukbd.zipNow please insert win XP cdNow open the extracted folder urdukbdDouble click on install.batIt will copy the some files from win XP service pack2 cdOpen the extracted folder urduPhnDouble click on file urdu-Phn.msi and follow the instructionplease restart your systemclick control panel click on regional & language optionsClick on language tabClick details select keyboard click add select input language United stateSelect key board layout/ime Urdu phonetic keyboardClick ok Click apply okplease restart your systemOpen Ms word
Right Click EnShow languages barClickTick on UrduClick UrduTick Urdu phonetic keyboard layoutStart typing in UrduIf any difficulty or problem plz contactSudhir kumarOr call on 919412255408Or mail on ksudhir128@gmail.com
k_sudhir128@ rediffmail.com k_sudhir128@yahoo.co.in acc@india.com

मंगलवार, 1 जनवरी 2008

Hindi Teaching Material by UPenn

www.Indialinglang.info
www.Indialinglang.info


Listening Comprehensionin Standard Hindi atAdvanced and Superior levels

Introduction to the Program
Five Video Interviews
Guidelines for Learners


-

प्रेम की परिभाषा

ओशो का संदेश

मेरा संदेश छोटा सा है:

आनंद से जीओ। और जीवन के समस्त रंगों को जीओ।
कुछ भी निषेध नहीं करना है। जो भी परमात्मा का है,शुभ है।
जो भी उसने दिया है ,अर्थपूर्ण है।
उसमें से किसी चीज़ का इनकार करना ,
परमात्मा का ही इनकार है,
नास्तिकता है।
- ओशो
साभार : (ओशो वर्ल्ड दिसंबर,2007 )